www.poetrytadka.com

Mohabbat badhti gayi

बहुत रोका लेकिन रोक ही नहीं पाया, 

मुहब्बत बढ़ती ही गयी मेरे गुनाहों की तरह

Mohabbat badhti gayi
सबसे बेस्ट शायरी Click Here