www.poetrytadka.com

Meri Zaroorat tum ho

मेरी जरूरत और ख्यायिस दोनों तूम हो और अगर रब की कभी मेहरबानी हुई तो कोई एक तो पूरी होगी !!

Meri Zaroorat tum ho