www.poetrytadka.com

Meri har baat smajh jate ho

Last Updated

मेरी हर बात समझ जातें हो तुम,

फिर भी क्युँ मुझे सताते हो तुम

तुम बिन कोई और नहीं मेरा,

शायद इसी बात का फ़ायदा उठाते हो तुम

meri har baat smajh jate ho