meri chahat ko

achi shayari meri chahat ko

मेरी चाहत को मेरी हालत की तराजू में ना तोल, 

मैंने वो ज़ख्म भी खाऐं हैं, जो मेरी किसमत में नहीं थे