www.poetrytadka.com

Meri baat sun pagli

मेरी‬ बात सुन ‪पगली‬ अकेले ‪हम‬ ही ‪‎शामिल‬ ‪‎नही‬ है इस ‪‎जुर्म‬ में....

‎जब नजरे‬ मिली ‎थी‬ तो ‎मुस्कराई तू‬ भी थी...

 

Meri baat sun pagli
सबसे बेस्ट शायरी Click Here