www.poetrytadka.com

mere pyar ki roshni

फ़ना हो गई मेरे प्यार की रौशनी वहाँ !
कदम कदम पर जहाँ बेशुमार मज़हब हैं !!