www.poetrytadka.com

mere khuda too unhe maaf kar

mere khuda too unhe maaf kar

मेरे अश्को से तू अपना दामन साफ कर 

अकेले तड़पता हूँ ऐ खुदा इन्साफ कर 

उनकी बेवफाई में कुछ राज छुपा है 

मेरे खुदा तू उनके हर गुनाह माफ़ कर