www.poetrytadka.com

mere hi lhoo se

mere hi lhoo se

डूबी है मेरी अंगुलियां मेरे ही लहू में !
उन कांच के टुकड़ों पे भरोसा करनें की सजा हैं !!