www.poetrytadka.com

mere hi khoon me

Last Updated

डूबी है मेरी उंगलियां मेरे ही खून में,

ये काँच के टुकड़ो पर भरोशे की सज़ा है

mere hi khoon me