www.poetrytadka.com

mere dil ka dard

mere dil ka dard

मेरे दिल का दर्द किसने देखा है 

मुझे बस खुदा ने तड़पते देखा है 

हम तन्हाई में बैठे रोते है 

लोगो ने हमे महफ़िल में हस्ते हुए देखा है