www.poetrytadka.com

mere aawargi me kuch

मेरी आवारगी में कुछ क़सूर अब तुम्हारा भी है !
जब तुम्हारी याद आती है तो घर अच्छा नहीं लगता !!