www.poetrytadka.com

mera gam bhi loot le

हर रात जान-बुझकर रखता हूँ दरवाजा खुला !
शायद कोई लूटेरा मेरा गम भी लूट ले !!