www.poetrytadka.com

Mat staao hme

मत सताओ हमे हम सताए हुए है
अकेला रहने का ग़म उठाये हुए है
खिलौना समज के ना खेलो हम से
हम भी उसी खुदा के बनाये हुए है
mat staao hme