www.poetrytadka.com

mana ki khud chal kar aaae hai

माना की खुद चल कर आये हैं तेरे दर पर ऐ मोहबत !
मगर दर्द दर्द और सिर्फ दर्द ये कहाँ की मेहमान नवाजी है !!