www.poetrytadka.com

mai to sirf hoon

यूँ ना बर्बाद कर मुझे अब तो बाज़ आ दिल दुखाने से !
मै तो सिर्फ इन्सान हूँ,पत्थर भी टूट जाता है, इतना आजमाने से !!