www.poetrytadka.com

mai patriyu ki tarah

मैं पटरियों की तरह ज़मीं पर पड़ा रहा !
सीने से ग़म गुज़रते रहे रेलगाडी की तरह !!