www.poetrytadka.com

mahsoosh kar rhe hai

mahsoosh kar rhe hai

महसूस कर रहें हैं तेरी लापरवाहियाँ कुछ दिनों से याद रखना !
अगर हम बदल गये तो,मनाना तेरे बस की बात ना होगी !!