www.poetrytadka.com

maa ki baho ko trasta chor aaya hoon

किसी गजरे की खुशबु को महकता छोड़ के आया हूँ !
मेरी नन्ही सी चिड़िया को चहकता छोड़ के आया हूँ !
मुझे छाती से अपनी तू लगा लेना ऐ भारत_माँ !
में अपनी माँ की बाहों को तरसता छोड़ के आया हूँ !!
‎जय हिन्द