www.poetrytadka.com

Kya Fir

क्या फिर नहीं हो सकता हम जान मांगें तुमसे !
और तुम गले से लगाकर कहो और कुछ !!