www.poetrytadka.com

kuch sapne hai

Last Updated

इन पलकों में कैद कुछ सपने है 

कुछ बेगाने है कुछ अपने है 

ना जाने कैसी कशिश है इन ख्यालो में 

कुछ लोग दूर होकर भी कितने अपने है 

kuch sapne hai