www.poetrytadka.com

kuch kar naa ske hum

दिल था अमीर और मुक़द्दर ग़रीब था !
मिल कर बिछड़ना मेरा नसीब था !
चाह कर भी कुछ कर ना सके हम !
घर भी जलता रहा और समुंदर भी करीब था !!