www.poetrytadka.com

kuch dil tsalli

कुछ दिल को तसल्ली हो आराम तो आये !
शिक़वा ही हो लब पर -मेरा नाम तो आये !
अब तुमसे मुलाक़ात हुये- बख़्त है गुज़रा !
तुम सामने आ जाओ-- वो शाम तो आये !!