www.poetrytadka.com

ksoor itna tha ki beksoor the hum

ksoor itna tha ki beksoor the hum

जीना चाहा तो जिंदगी से दूर थे हम !
मरना चाहा तो जीने को मजबूर थे हम !
सर झुका कर कबूल कर ली हर सजा!
बस कसूर इतना था कि बेकसूर थे हम !!