www.poetrytadka.com

koi wfadar nahi

टूट कर भी कम्बख्त धड़कता रहता है मैने !
इस दुनिया मैं दिल सा कोई वफादार नहीं देखा !!