www.poetrytadka.com

Koi nahi tha

कोई नहीं था और ना ही कोई होगा
तुमसे करीब मेरे दिल के तुम ही रहोगे