www.poetrytadka.com

koi dil patthar ka naa hoo

तुम जो बेपरवाह होकर दिलों को कुचले जा रही हो पावों तले !
तुम्हारे पाँव नाजुक हैं ख्याल रखना कोई दिल पत्थर का ना हो !!