www.poetrytadka.com

kismat aur kabiliya on poetry

कागज़ अपनी किस्मत से उड़ता है !
और पतंग अपनी काबिलियत से इसलिए !
जब किस्मत साथ न दे तब काबिलियत पर भरोसा ज़रूर रखो !!