www.poetrytadka.com

kisi shayar ka

चेहरा है जैसे झील में हँसता हुआ कवंल !
या ज़िन्दगी के साज़ पे छेड़ी हुई ग़ज़ल !
जाने बहार तुम किसी शायर का ख्वाब हो !!