www.poetrytadka.com

kisi se narazgi itni

किसी से नाराजगी इतनी गहरी ना करे....कि !
भविष्य मे समझोते की गुंजाईश ही ना बचे !!