www.poetrytadka.com

kisi ke kaam nahi aati

सोचता हूँ बंद करूँ लिखना शायरी ये किसी के काम नहीं आती !
उसकी याद तो दिलाती है पर उस की झलक नहीं दिखाती !!