www.poetrytadka.com

kisi aur ke liae

kisi aur ke liae

हमारे इकरार के इरादे को दे जाता है हर रोज शिकस्त !
किसी और के लिये तेरा हल्का सा महफील मे मुस्कुरा देना !!