www.poetrytadka.com

khudgarz ban gae ho tum

मर्जी से जीने की बस ख्वाहिश की थी मैंने !
और वो कहते हैं कि खुदगर्ज़ बन गए हो तुम !!