www.poetrytadka.com

khuda ka shukr hai

बाद मरने के मिली जन्नत ख़ुदा का शुक्र है !
मुझको दफ़नाया रफ़ीक़ों * ने गली में यार की !!