khawab shayari on facebook

khawab shayari on facebook

मेरी सरगोशियां जब खामोशियाँ बन जाएं?
मेरी तनहाइयाँ तेरी मजबूरिया न बन जाएं

Read More khwab shayari