www.poetrytadka.com

khanzar dil pe chalti hai

जब उसकी यादो के खंज़र दिल पे चलतै है !
तो आह आह कि आवाज निकलती है !
जब लिखू रो रो के मे दरदे ऐ इशक अपना !
तो सूनने वाले के दिल से वाह वाह निकलती है !!