www.poetrytadka.com

khamushi me milti hai

सच्चाई अक्सर, खामोशी मे ही मिलती है !
झुठ को हर वक्त, होंठो पर रहने की आदत है !!