www.poetrytadka.com

Khamosh Dil

रफ़्ता-रफ़्ता बुझ गया चिराग़-ए-आरजू , 

पहले दिल ख़ामोश था अब ख़्वाहिशें ख़ामोश हैं