www.poetrytadka.com

khamoosh huy jati hai

Last Updated

वो ख़लिश जिस से था हंगामा-ए-हस्ती बरपा

वक़्त-ए-बेताबी-ए-ख़ामोश हुई जाती है