www.poetrytadka.com

kha rhoo ghar bnane tak

तेरी तलब में जला डाले आशियाने तक !
कहाँ रहूँ मैं तेरे दिल में घर बनाने तक !!