www.poetrytadka.com

Kash koi rodi day bhi hoti

काश कोई रोटी डे भी होता
तो लोग भूख से बिलखते लोगों को
रोटी बांटते !
काश कोई कपड़ा डे भी होता
तो लोग ठण्ड से ठिठुरते लोगों को
कपड़े बांटते !
काश कोई इंसानियत डे भी होता
तो लोग इंसानियत क्या होती है
समझ पाते