www.poetrytadka.com

kale dhan ki trah

दिल छिपा रखी है मुहब्बतें काले धन की तरह !
खुलासा नही करते कहीं हंगामा न हो जाए !!