kaha wafa milti hai shayari

kaha wafa milti hai shayari

kaha wafa milti hai in haseen insaano main
ye log bigair matlab ke tu khuda ko bhi yaad nahi karte
कहा वफा मिलती है इन हसीं इंसानो मैं
ये लोग बिगैर मतलब के तू खुदा को भी याद नहीं करते

dekho laut aayi hi phir se barish yahan
bus 1 tum ho jo abhi tak aane ki fursat nahi tumko
देखो लौट आयी ही फिर से बारिश यहाँ
बस 1 तुम हो जो अभी तक आने की फुर्सत नहीं तुमको

Read More