www.poetrytadka.com

kabhi nahi darta

पेड़ की शाखा पर बैठा पंछी कभी भी इसलिए

नहीं डरता कि डाल हिल रही है।

क्योंकि पंछी डाल पर नहीं अपने पंखों पर

भरोसा करता है