www.poetrytadka.com

kabhi kisi se pyar mat karna

सुनहरे लमहों का व्यापार मत करना !

कभी रिश्तों को तार – तार मत करना !

गम और तनहाई अगर सह ना सको तो

कभी किसी से प्यार मत करना !!