www.poetrytadka.com

kabhi humse bhi bate do pal kar liya kro

कभी हमसे भी पल दो पल बातें चंद कर लिया करो I
क्या पता आज हम तरस रहे हैं कल तुम तरस जाओ II