www.poetrytadka.com

kabhi dil pe hath

क्योँ दिमाग पे जोर दे कर गिनते हो गलतियाँ मेरी !
कभी दिल पर हाथ रख कर पूछो के कसूर किसका था !!