www.poetrytadka.com

jyada kuch nahi badla

ज्यादा कुछ नहीं बदलता उम्र बढने के साथ !
बचपन कि जिद समझोतों में बदल जाती है !!

हिन्दी शायरी