www.poetrytadka.com

Judai Ki Shayari

अगर मुझसे मोहब्बत नहीं तो रोते क्यों हो
तन्हाई में मेरे बारे में सोचते क्यों हो
अगर मंज़िल जुदाई है तो जाने दो मुझे
लौट के कब आओगे पूछते क्यों हो।

तेरी जुदाई का शिकवा करूँ भी तो किस से करूँ, 
यहाँ तो हर कोई अब भी, मुझे, तेरा समझता हैं
Teri judai ka karun bhi to kis se karun
Yahan to har koi abh bhi mujhe tera samajhta hai.

Judai Ki Shayari
सबसे बेस्ट शायरी Click Here