www.poetrytadka.com

jo meri khamushi nahi samajh ska

अल्फाज़ तो बहुत है मोहब्बत को जताने के लिए !
जो मेरी खामुशी नहीं समझ सका वो मेरी मोहब्बत क्या समझे गा !!