www.poetrytadka.com

jisme yaad naa aaae wo tanhai kis kam ki

jisme yaad naa aaae wo tanhai kis kam ki

जिसमे याद ना आए वो तन्हाई किस काम की !

बिगड़े रिश्ते ना बने तो खुदाई किस काम की !

बेशक इंसान को ऊंचाई तक जाना है !

पर जहाँ से अपने ना दिखें वो उँचाई किस काम की !!